जीवन क्या है ?

jeevan-kya-hai-जीवन-क्या-है

जीवन क्या है?विपदाओं और सुयोग का जोड़ घटाव ही जीवन है । शैशव, यौवन, व्यस्क, प्रौढ़ की पेड़ी चढ़ता जीवन है । संघर्षों में आशाओं को बांधे रखना जीवन है । निराशाओं के मेघ घनेरे, पग-पग मिलना जीवन है । आत्मबल की तपती किरणों से भेद निकलना जीवन है । जो भेद कर निकल गए, … Read more जीवन क्या है ?

खुश कैसे रहें: खुश रहना है तो छोड़ दीजिये ये 26 आदतें

khush-kaise-rahein-खुश-कैसे-रहें

हम खुश रहने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं । वो सब कुछ करने के लिए तैयार हैं जो हमें सिखा सके कि हम खुश कैसे रहें । पर कभी-कभी खुश रहने के लिए कुछ चीज़ें “ ना ” करने का प्रण भी लेना ज़रूरी है । तो यहां मैंने २६ ऐसी बातों की … Read more खुश कैसे रहें: खुश रहना है तो छोड़ दीजिये ये 26 आदतें

प्रेरणा स्त्रोत की प्रतीक्षा मत करो, अपना दिया स्वयं बनो ।

prerna-strot-ki-prateeksha-mat-karo-apna-diya-swayam-bano-प्रेरणा-स्त्रोत

आपने मेरा पिछला ब्लॉग पोस्ट तो पढ़ा ही होगा और पढके मन में कुछ हलचल भी हुई होगी । कुछ सवाल उठे होंगे, कुछ शंका भी होंगे । क्या आपके मन में ये विचार भी उठा कि अगर हम अपने आप को ही अपना प्रेरणा स्त्रोत बना दें तो दूसरों से कुछ नहीं सीख पाएंगे … Read more प्रेरणा स्त्रोत की प्रतीक्षा मत करो, अपना दिया स्वयं बनो ।

सही मायने में हमारा प्रेरणा-स्त्रोत कौन है ?

sahi-mayne-mein-hamara-prerna-strot-kaun-hai-प्रेरणा-स्त्रोत

कहते हैं कि हमारे प्रेरणा-स्त्रोत हमारे आसपास ही होते हैं । बस जरुरत है तो उसे पहचानने और समझने की । ज्यादातर ये देखने में आता है कि हम उस प्रेरणा की तलाश बाहर की तरफ करते हैं, अपने अंदर नहीं । तो मेरा सवाल ये है कि  “ हम स्वयं अपने प्रेरणा-स्त्रोत क्यूँ नहीं … Read more सही मायने में हमारा प्रेरणा-स्त्रोत कौन है ?

मुझे मरने से पहले जीना नहीं छोड़ना ! I’m gonna Live till I die.

marne-se-pahle-jina-nahi-chodna-live-till-you-die

# कहानी क्यूँ हम अपने दुःख के बारे में ज्यादा और खुशियों के बारे में कम बात करते हैं ? क्यूँ ये नहीं समझते कि मरने से पहले जीना नहीं छोड़ना चाहिये ?आस पास या चलते फिरते जहाँ भी देखो, दुनिया में दुखी और ग़मगीन चेहरे ज्यादा दिखाई देंगे, पर बिना वजह हल्की सी मुस्कराहट … Read more मुझे मरने से पहले जीना नहीं छोड़ना ! I’m gonna Live till I die.

सबसे बड़ा रोग,क्या कहेंगे लोग !

sabse-bada-rog-kya-kahenge-log-क्या-कहेंगे-लोग

कभी सोचा है? कौन हैं वो लोग जिनके कुछ बोलने से हम इतना डरते हैं? क्या कहेंगे लोग…ये सोच-सोचकर जीवन भर हम अपनी इच्छाओं का गला घोंटते हैं। ऐसे कपड़े मत पहनना लोग क्या कहेंगे? ये काम मत करना लोग क्या कहेंगे? उनके साथ मत हँसना-बोलना लोग क्या कहेंगे? पार्टी नहीं दी तो लोग क्या … Read more सबसे बड़ा रोग,क्या कहेंगे लोग !

तू मेरी बेटी नहीं बेटा है (you are my son, not my daughter)

tu-meri-beti-nahi-beta-hai

नहीं ! हरगिज़ नही। मै आपकी बेटी हूँ और बेटी ही कहलाना चाहती हूँ। मै आपका बेटा नही हूँ और ना ही आपका बेटा बनना चाहती हूँ। कयूँ बनूँ? कयूँ कहलाऊँ मै आपका बेटा? क्या मेरा अपना कोई अस्तित्व नहीं है? मेरी अपनी एक अलग पहचान है , वजूद है। जो भी काम मै कर रही … Read more तू मेरी बेटी नहीं बेटा है (you are my son, not my daughter)